Latest quotes | Random quotes | Latest comments | Add quote

Milap Singh

Dard Ik Ehsas ???? ?? ??????

दर्द इक एहसास ही तो है
राहत की आस ही तो है

हम नहीं इससे मुतािसर
हमको यह रास ही तो है

िजगर में होती है हलचल
यह इक प्यास ही तो है

ये है गर्मी का इक सबब
ये भी इक सांस ही तो है

याद आता है खूदा सबको
लम्हा यह खास ही तो है

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share

Abhi-Abhi Pi Hai Sharab

अभी अभी पी है शराब नशा उतरने दे
फिर करूंगा तुमसे बात नशा उतरने दे

दिल आश्काना है और फिर ये मदहोशी
फिर न कहना कुछ जनाब नशा उतरने दे

मुक्तसर आवेश है ये कोई मुसल्ल नही
बदल जायेंगे तेरे जज्बात नशा उतरने दे

गम के अंधेरों से तो निकल जाउं मै
फिर पकड़ना मेरा हाथ नशा उतरने दे

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share

Apni Manjil ki Taraf

अपनी मंजिल की तरफ रुख करें
साँस तो है अभी और कुश चलें

मिल जाएगी जरूर मक्सुदे मंजिल
इरादा कर के अगर तरफ बढें

सारी दुनिया में जो रोशन रहे
आओ दुनिया में काम ऐसा कुछ करे

प्यार में इतना तो लाजमी है मिलाप
दर्द सहते रहे हम और चुप रहें

आने वाला कल ही तो नई आस है
बीते कल का क्यों हम दुःख करें

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share

Sharab Ki Botal

शराब की बोतल


कितनी प्यारी है ये शराब की बोतल
डोल जाते है इसे देख के कितने मन

जब कहीं इसको इक बार खोल देते है
फिर वहां से जाने को नही करता मन

ये मेरे गम -ख़ुशी में शरीक होती है
अजीब सा बन गया है इससे अपनापन

जाम के बाद जाम जब में उठाता हूँ
साथ -ही -साथ में घटते है मेरे गम

साथ देती है मेरा यह दर्द मिटने में
जी में आता है रखूं पास इसे हरदम


[...] Read more

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share

Tere Nam Ki ???? ??? ??

तेरे नाम की हर शय से
मैंने िरश्ता तोड िलया
याद न आए तू मुझको
तेरे शहर को छोड िदया

संग के िदल में जब जरा भी
उल्लफत न जागी
पत्थर के पहाडो से टकरा के
हवा ने रुख मोड िलया

यह न सोचो ' िमलाप ' तुम्हारी
शामोसहर कहाँ गुजरेगी
शहर के इक सज्जन ने
मयखाना नया खोल िलया

िजंदगी की राह पे चलते
तूने नहीं कोई लापरवाही की
गम ओर इश्क भला िकसने
इस दुिनया में मोल िलया

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share

Tanhaion Ke Pal

बन के इक आस नई दिल पे छा जाते है
भूले बिसरे लम्हे जब याद आ जाते है

मुझको होती है तुमसे मिलने की खवाइश
जब तेरे प्यार के पल सपनों में आ जाते है

फिर से जीने की तमन्ना करता है दिल
जब तेरे हुस्न के जलबे झलक दिखा जाते है

फिर से मंजिल की तरफ बनता है रुख
फिर कई मकसद जहन में मेरे आ जाते है

प्यार जिन्दगी में बड़ा जरूरी है 'मिलाप'
वरन तनहाईय़ौं के पल जिन्दगी खा जाते है

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share

Kus Pal Ke Liye

रास्ता -
िबलकुल सूना था
चंद मुसािफर आए
कुछ पल के िलए
चंचलता की लहरे दौड पडी
िदलकशी छा गई
मुसािफर चले गए
रास्ता-
िफर सूना रहा गया

रात-
िबलकुल सूनी थी
अँधेरी थी
भोर हुई सूरज िनकला
कुछ पल के िलए
हरसूँ रौशनी छा गई
चंचलता छा गई
सूरज चला गया
रात-
िफर सूनी रहा गई

[...] Read more

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share

Jab Mere Pehlu Se

जब मेरे पहलु से होकर के तू आती-जाती है
मेरे जहन में कोई ग़ज़ल झिलमिलाती है
फूल खुशबु को उड़ा के समां रंगीन करते है
और हवा आँचल को उड़ा के अदा दिखाती है
सुर्ख होंठो का तवसुम तेरे तोबा-तोबा
महक जीस्म की तेरी जिगर को गुदगुदाती है
पहले ही इश्क में फिरता हूँ में घायल-घायल
और क्या कहूँ जब तू अदा से मुस्कुराती है
मेरी धड़कन भी चलती है कुश ज्यादा-ज्यादा
तेरी पायल भी कुछ ज्यादा खनखनाती है

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share

Sanyukat Vishal Bharat

कैसा वो दौर था
कैसी थी हवाएँ
जब अपने प्यारे भारत को
लग रहीं थी बद्दुआएँ

जब घ्रीणा की दुर्गंध
हर ओर से थी आती
जब बन गया था वैरी
अपना धर्म- समप्रदाय और जाित

न जाने कैसी वो शतरंज थी
और कैसा था वो पासा
िजसने हर िकसी के मन में
भर दी थी िनराशा

कैसा वो दौर था
कैसी थी बहारें
जब दाडी-मूछ के भेद पर
बरस रही थी तलवारें

[...] Read more

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share

Aansuon Ko Rokkar

क्या मिला है आपको आंसुओं को रोक कर
कर ली खराब जिन्दगी बेसबव सोच कर

कितने ही हो चुके बर्बाद सोच सोच में
अब भी कुछ वक्त है अब भी कुछ गौर कर

गये हुए वक्त को बार बार सोचना क्या
जीना हो जहाँ में तो जिओ दिल खोलकर

मेरे लिए जो गलत है तेरे लिए वो ठीक है
गलत ठीक का न तू हर घड़ी मापतोल कर

ये दिल है शीसे का दरार तो रहेगी ही
कितने दिन जिओगे दिल के पुर्जे जोडकर

आपकी ही बात नही हमने भी धोखे खाए है
जिसे भी मेने दिल दीया चले गये तोडकर


milap singh

poem by Milap SinghReport problemRelated quotes
Added by Poetry Lover
Comment! | Vote! | Copy!

Share
 

<< < Page / 2 > >>

If you know another quote, please submit it.

Search


Recent searches | Top searches